Share

उमेश कुमार (संज्ञान दृष्टि)

आज मानव कल्याण चैरिटेबल फाउंडेशन अध्यक्ष धर्मेंद्र त्यागी ने गुरी पूर्णिमा पर पौधारोपण कर गुरुओं का किया सम्मान

धर्मेंद्र त्यागी ने गुरु पूर्णिमा पर प्रकाश डालते हुए कहा आदि काल से ही सनातन धर्म में आषाढ़ माह की पूर्णिमा को गुरु पूर्णिमा के रूप में मनाया जाता है शिव पुराण के अनुसार गुरु पूर्णिमा के दिन जगत गुरु वेद व्यास सहित अन्य गुरुओं की भी पूजा की जाती है शैक्षिक ज्ञान अध्यात्म और साधना का विस्तार करने के उद्देश्य से ही गुरु शिष्य परंपरा का जन्म हुआअपने शिष्य को अंधकार से बचाकर प्रभकाश की ओर ले जाना ही गुरुता है इस पवित्र पर्व पर सिर्फ अपने गुरुओं को पूजा अर्चना कर उपहार स्वरूप कुछ ना कुछ दान दक्षिणा देते हैं प्रत्येक गुरु में गुरु की सत्ता परम ब्रह्म की तरह कण-कण में व्याप्त रही गुरु बिन संसार अज्ञानता की कालरात्रि मात्र ही है
लेकिन आज कुछ युवा पीढ़ी अपने गुरु और संतों का अनादर कर रहे हैं जिसके कारण वह अज्ञानता में डूबे जा रहे हैं गुरु के बिना शिक्षा अधूरी संतो के बगैर आध्यात्मिक ज्ञान अधूरा आओ आज हम सब प्रण करें अपने गुरु माता पिताऔर संतों का सम्मान करने का प्रण लेते और उनके बताए हुए मार्ग पर चलने का काम करेंगे


Share