चार दिन तक लाश की तरह पेड़ के नीचे लावारिश पड़ा रहा यह बुजुर्ग, जानें-क्‍यों हुआ ऐसा हाल

कुशीनगर (जयप्रकाश यादव)
एक माह से बीमार पड़े बुजुर्ग को बड़ा भाई गोरखपुर रेलवे स्टेशन पर छोड़कर चला गया। पांच दिन तक वह जीआरपी प्रीपेड बूथ के सामने पड़ा रहा। शुक्रवार को राहगीरों ने जीआरपी थाना प्रभारी को बताने के साथ ही 108 नंबर पर फोन कर एंबुलेंस बुलाया। थाना प्रभारी के निर्देश पर सिपाही ने बुजुर्ग को जिला अस्पताल में भर्ती कराया।

कुशीनगर, नेबुआ नौरंगिया के सेखुई गांव के रहने वाले 60 वर्षीय सुकई एक माह से बीमार हैं। परिवार में पत्नी फूलपतिया देवी के अलावा दो बेटे हैं। बड़ा बेटा सवरू मजदूरी करता है। दूसरे नंबर का बेटा लोरिक विदेश में है। परिवार के लोगों ने एक माह तक गोरखनाथ चिकित्सालय में सुकई का इलाज कराया। तबीयत में सुधार होने पर घर ले गए। पांच दिन पहले सुकई की तबीयत बिगड़ गई। बड़ा भाई रामप्रीत इलाज कराने के बहाने गोरखपुर ले आया।

*लाश की तरह पांच दिन से पेड़ के नीचे पड़ा रहा*

आरोप है कि रेलवे स्टेशन के बाहर जीआरपी प्रीपेड बूथ के पास उन्हें छोड़कर चला गया। चलने-फिरने में असमर्थ सुकई पांच दिन से पेड़ के नीचे पड़े थे। किसी की नजर उनके ऊपर नही पड़ रही थी। शुक्रवार की दोपहर में ओला चालक की नजर पड़ी तो हाल जानने उनके पास पहुंच गया। पूछने पर उन्होंने आपबीती सुनाया और अस्पताल पहुंचाने की गुजारिश करने लगे।

*कार चालक की नजर पड़ी तो सामने आया मामला*

ओला चालक ने यह बात रास्ते से गुजर रहे लोगों को बताया। जिसके बाद मौके पर भीड़ जुट गयी। 108 नंबर पर फोन करने पर एंबुलेंस लेकर चालक लालजी पहुंच गया। जानकारी होने पर जीआरपी थाना प्रभारी अश्वनी कौशिक ने दारोगा व सिपाही को मौके पर भेजा। जिन्होंने सुकई को जिला अस्पताल में भर्ती कराया।

बीमार बुजुर्ग को जिला अस्पताल में भर्ती कराया गया है। कुशीनगर पुलिस को मामले की जानकारी दे दी गई है। परिजनों से अभी संपर्क नहीं हो पाया है

Leave a Reply

You may have missed

%d bloggers like this: