48 घंटे में दो दर्जन से ज्यादा छात्र हुए संक्रमित, सीएमओ ने सभी स्कूलों को किया नोटिस जारी

नोएडा और ग्रेटर नोएडा (संज्ञान न्यूज़ डेस्क) : नोएडा में कोरोना संक्रमण का कहर लगातार बढ़ता जा रहा है। सबसे ज्यादा खतरा स्कूलों के बच्चों को हो रहा है। सोमवार से अब तक करीब 5 से ज्यादा प्राइवेट स्कूलों के 2 दर्जन छात्र कोरोना संक्रमण का शिकार हुए हैं। यहां तक की अध्यापक भी कोरोना संक्रमण की चपेट में आए हैं, लेकिन बड़ी बात यह है कि शहर के नामी प्राइवेट स्कूल इन मामलों को छुपा रहे हैं। इसके बाद जनपद के मुख्य चिकित्सा अधिकारी डॉक्टर सुनील शर्मा ने जिले के सभी प्राइवेट स्कूल को नोटिस जारी करते हुए कहा है कि अगर उनके स्कूल में पढ़ने वाले बच्चे कोविड-19 की चपेट में आ गए हैं और स्कूल प्रशासन स्वास्थ्य विभाग को मामले की जानकारी नहीं दे रहा है तो ऐसे स्कूलों का खिलाफ सख्त कार्रवाई की जाएगी।

सीएमओ ने किया नोटिस जारी
मुख्य चिकित्सा अधिकारी डॉक्टर सुनील शर्मा ने बुधवार को गौतमबुद्ध नगर जनपद के सभी प्राइवेट स्कूलों को एक सर्कुलर जारी किया है। उन्होने कहा कि अगर किसी छात्र-छात्राएं या अध्यापक में खांसी, जुकाम बुखार या कोरोना संक्रमण के लक्षण दिखे तो तुरंत स्वास्थ्य विभाग को सूचित करें, ताकि उनका टेस्ट कर कोरोना वायरस फैलने से बचाया जा सके। अगर स्कूल के प्रबंधक कोरोना के मामले को छुपाते हैं, तो उनके खिलाफ सख्त कार्रवाई की जाएगी।

इन स्कूलों के नाम सामने आए, लेकिन स्वास्थ्य विभाग ने नहीं की पुष्टि
आपको बता दें कि खेतान पब्लिक स्कूल के बाद दिल्ली पब्ल्कि स्कूल (डीपीएस), द मिलेनियम, जेबीएम स्कूल, श्रीराम मिलेनियम और समरविल के बच्चों में संक्रमण की बात कही जा रही है। हालांकि, स्वास्थ्य विभाग और स्कूल इस तरह की जानकारी होने से इनकार कर रहे हैं। सिर्फ डीपीएस ने 2 मामलों की पुष्टि की है। वहीं, स्वास्थ्य विभाग के अनुसार संक्रमित पाए गए सभी बच्चों की स्थिति सामान्य है। किसी में फिलहाल गंभीर लक्षण सामने नहीं आए हैं। सभी का इलाज किया जा रहा है।  

डीपीएस के 2 छात्र हुए कोरोना पॉजिटिव
सेक्टर-30 स्थित डीपीएस में कक्षा 10 और कक्षा 8 के बच्चे को कोरोना हुआ है। इन दोनों कक्षाओं में सामान्य रूप से पढ़ाई बंद करके ऑनलाइन कक्षाएं शुरू कर दी गई हैं। स्कूल की अन्य कक्षाएं जारी रहेंगी, लेकिन अभिभावक इन्हें भी बंद करने की मांग कर रहे हैं। मामले में स्वास्थ्य विभाग और प्राइवेट स्कूलों पर जानकारी छुपाने संबंधी आरोप भी अभिभावक लगा रहे हैं। 

सोशल मीडिया पर यह दावा किया गया
कई सोशल मीडिया पोस्ट में यह दावा किया गया कि नए मिले संक्रमित डीपीएस, सेक्टर-22 समरविल, सेक्टर-119 द मिलेनियम स्कूल और सेक्टर-135 श्रीराम मिलेनियम स्कूल, सेक्टर-132 जेबीएम स्कूल से हैं। श्रीराम मिलेनियम और जेबीएम ने किसी मामले से इनकार किया है। वहीं द मिलेनियम के एडमिन विशुद्ध मिश्रा ने बताया कि उनके यहां किसी बच्चे के संक्रमित होने की कोई घटना अभी तक स्कूल प्रबंधन के संज्ञान में नहीं है।

स्कूलों ने नहीं दी जानकारी
सीएमओ डॉ. सुनील शर्मा ने बताया कि बच्चों में कोविड के नए मामले सामने आए हैं। यह मामले कौन-कौन से स्कूल से हैं यह जानकारी नहीं है। वहीं, इस मामले में जिला प्रशासन से संपर्क करने पर इसे स्वास्थ्य विभाग का मामला बताकर टाला जा रहा है। ऐसे में बच्चों के स्वास्थ्य को लेकर कड़े कदम कौन उठाएगा यह बड़ा सवाल है।

स्कूलों को जानकारी देनी चाहिए : मनोज कटारिया
गौतमबुद्ध नगर पैरेन्ट्स वैल्फेयर सोसाइटी के संस्थापक मनोज कटारिया का कहना है कि बच्चों के स्वास्थ्य को पहली प्राथमिकता दी जानी चाहिए। यदि ऑनलाइन कक्षाएं एक सुरक्षित विकल्प हो सकती हैं तो सुरक्षा को ताक पर रखकर स्कूल खोलने की आवश्यकता नहीं है। साथ ही, जिन स्कूलों में बच्चे संक्रमित हैं, उनकी सही जानकारी साझा की जानी चाहिए। 

सोशल मीडिया पर उठी कई मांगे
ऑल इंडिया अभिभावक एसोसिएशन के यतेंद्र कसाना का कहना है कि कोविड संबंधी सही जानकारी स्कूलों की स्थिति अभिभावकों को पता होनी चाहिए। साथ ही, सुरक्षा के और बेहतर उपाय किए जाने चाहिए। स्कूलों में सामाजिक दूरी, सैनिटाइजेशन कैसे सुनिश्चित होगा यह बड़ा सवाल है। बच्चों के स्वास्थ्य पर लापरवाही नहीं दिखाई जानी चाहिए। सोशल मीडिया पर भी कई लोगों ने स्कूल बंद करने की मांग उठाई है।

(इस खबर में स्कूलों के नाम “भाषा” न्यूज़ एजेंसी द्वारा दिए गए हैं। स्कूलों के नाम में संज्ञान न्यूज़ जिम्मेदार नहीं है।)

Leave a Reply

You may have missed

%d bloggers like this: