बड़े बकायेदारों के आगे घुटने टेक रहा है बिजली विभाग,संजय मार्केट का मामला

मुकेश शर्मा

रायबरेली (संज्ञान न्यूज़) एक तरफ बिजली विभाग 10 हजार रुपये बिजली का कनेक्शन बकाया होने पर गरीब जनता के घरों का कनेक्शन काट और वसूली के लिये सारे नियम कानून लगाकर जनता को यह बताने का प्रयास करती है कि सरकार की मंशा के अनुसार किसी भी प्रकार की लापरवाही और भ्रष्टाचार बर्दाश्त नहीं किया जाएगा। वही शहर के गांधीनगर स्थित संजय मार्केट के मालिक संजय शुक्ला नहीं अधिशाषी अभियंता विद्युत प्रथम खंड सिविल लाइन को अपने दुकानदार द्वारा साढ़े चार लाख से ज्यादा बिजली का बिल बकाया हो जाने पर दुकानदार पर विधिक कार्यवाही कर बकाया बिल वसूलने के लिए प्रार्थना पत्र देते हुए घूम रहे हैं ।

7 अप्रैल 2022 को अधिशाषी अभियंता को दिए गए पत्र में संजय शुक्ला ने कहा है कि उसने अपनी मार्केट संजय मार्केट के समस्त दुकानदारों को विद्युत कनेक्शन हेतु अनापत्ति प्रमाण पत्र दिया था। इसके प्रत्येक किराएदार अलग-अलग विद्युत कनेक्शन ले सके । जिसमें से अखिलेश श्रीवास्तव पुत्र गया प्रसाद श्रीवास्तव ने भी दुकान संचालन हेतु विद्युत कनेक्शन ले रखा था । विद्युत कनेक्शन संख्या 725078 कमर्शियल के डब्ल्यू अकाउंट संख्या 99 1565 2000 का 446163 रुपए विद्युत बिल बकाया है । जिसकी विभाग द्वारा वसूली हेतु किसी भी प्रकार की कार्यवाही अभी तक नहीं हुई । आश्चर्यजनक बात है कि छोटे-छोटे बकायेदार होने पर बिजली विभाग लाव लश्कर लेकर उनके घरों में पहुंच जाता है और एक सामूहिक बेज्जती के तौर पर विद्युत कनेक्शन काट देता है । लेकिन इस मामले में संजय शुक्ला का कहना है कि उन्होंने खुद बिजली विभाग से कनेक्शन कटवा कर बिजली का बिल वसूल करने के लिए लगातार अधिकारी को प्रार्थना पत्र दे रहे हैं लेकिन अभी तक विभाग द्वारा केवल बकायदा रखो सेक्शन 3 की नोटिस ही विभाग जारी कर अपनी समुचित कार्यवाही को दिखा रहा है । वही इस बिल को लेकर लोगों में यह भी चर्चा बनी हुई है कि आखिरकार इतना लंबा बकाया होने के बाद यह कनेक्शन चल ही कैसे रहा था । क्योंकि पहले ही बिजली विभाग को खुद यह बिजली का बिल न जमा करने के कारण कनेक्शन काट देना चाहिए था । इससे साफ जाहिर है कि कहीं न कहीं दुकानदार और बिजली विभाग की पहले से सांठगांठ चली आ रही थी । मार्केट मालिक ने एक बार फिर विभाग से बकाया विद्युत कनेक्शन वसूली किए जाने की मांग की है।

Leave a Reply

%d bloggers like this: