IAS पूजा सिंघल प्रकरण : मनरेगा से शुरू हुई जांच का दायरा अवैध खनन और शेल कंपनियों तक पहुंचा

Ranchi : IAS अधिकारी पूजा सिंघल मामले की जांच कर रही ईडी टीम को रोज नये-नये मामलों से सामना हो रहा है. मनरेगा घोटाला मामला से शुरू हुई जांच अब अवैध खनन और शेल कंपनियों तक पहुंच गयी है. जांच की फेहरिस्त लंबी होती जा रही है. इसकी जद में अब सरकारी पदाधिकारियों के साथ-साथ बिल्डर, कई कारोबारी और बड़े राजनेता भी हैं.

अब खान विभाग के अफसर भी ईडी के रडार पर आ गये हैं. ईडी ने जिन तीन जिला खनन पदाधिकारियों को समन किया है, वह लंबे समय से एक ही जिले में पदस्थापित थे. साहेबगंज, दुमका और पलामू के डीएमओ इस लिस्ट में शामिल हैं.

अभिषेक पिंटू को कैसे मिला खान पट्टा, जांचेगा ईडीः

जानकारी के मुताबिक साहिबगंज के डीएमओ विभूति कुमार के द्वारा सीएम के मीडिया सलाहकार अभिषेक श्रीवास्तव उर्फ पिंटू को पाकुड़िया में खनन पट्टा दिया गया था. इस पट्टा आवंटन को लेकर भी ईडी खनन पदाधिकारी विभूति कुमार से पूछताछ की तैयारी में है. ईडी ने जांच में पाया है कि साहिबगंज में अवैध खनन, पत्थर की तस्करी के जरिये भी काली कमाई की गयी है, जिसका बड़ा हिस्सा राजधानी तक पहुंचता था.

ईडी यह पड़ताल कर रही है कि ढाई सालों में इन जिलों से कितनी अवैध कमाई पूर्व खनन सचिव पूजा सिंघल तक पहुंचायी गयी थी. गौरतलब है कि पूछताछ के दौरान सुमन कुमार ने स्वीकार किया था कि. पैसों का बड़ा हिस्सा पूजा सिंघल का है, वहीं उसने यह भी कबूल किया था कि पूजा सिंघल के कहने पर यह पैसे अलग-अलग जगहों से रिसीव किये गये थे.

तीन DMO से ED करेगी पूछताछ

जांच में यह बात सामने आयी है कि डीएमओ बाद जिला स्तर के अधिकारियों ने पूजा सिंघल को दुमका पैसे पहुंचाये थे. जांच में आये तथ्यों के बाद ईडी ने साहिबगंज, पलामू और दुमका के डीएमओ को समन किया है. शनिवार को तीनों अधिकारियों से ईडी पूछताछ करेगी. उम्मीद की जा रही है कि इससे पूजा सिंघल प्रकरण में और कई खुलासे होंगे.

Leave a Reply

%d bloggers like this: