पालिका का कार्यकाल पूरा होने को फिर भी नहीं बन पाए वेंडिंग जोन

चुनाव के दौरान पालिकाध्यक्ष ने पटरी दुकानदारों से किया था उन्हें बसाने का वादा

चिह्नित कराए गए थे दस वेंडिंग जोन, फिर भी शुरू नहीं हो सका काम

प्रांजल श्रीवास्तव,मनोज वर्मा

लखीमपुर खीरी (संज्ञान न्यूज़)। नगर पालिका के कार्यकाल के साढ़े चार साल पूरे हो चुके हैं। करीब छह महीने बाद चुनाव होने हैं, बावजूद इसके नगर पालिका के जिम्मेदार अपना चुनाव के समय किया वादा अब तक नहीं निभा सके हैं। यहां बता दें कि पालिकाध्यक्ष ने अपने चुनाव के दौरान पटरी दुकानदारों को वेंडिंग जोन में बसाकर एक ठिकाना उपलब्ध कराने का वादा किया था। अब जिम्मेदार कोरोना काल की दुहाई देकर अपना बचाव कर रहे हैं।

सौजन्या तिराहा रोड, जहां खड़े किए जाने थे वैंडर।


निकाय चुनाव के दौरान पालिकाध्यक्ष ने पटरी दुकानदारों को एक निश्चित स्थान मुहैया कराने का वादा किया और चुनाव जीतने के बाद इनके लिए दस स्थान भी चिह्नित कराए। मकसद था पटरी दुकानदार निर्धारित जगहों पर बिना किसी असुविधा के ठेले आदि लगाकर अपना कारोबार कर सकें। इससे अतिक्रमण के खिलाफ समय-समय पर चलने वाले अभियान से यह सुरक्षित भी रहेंगे। मगर साढ़े चार साल बीतने के बावजूद पालिकाध्यक्ष का वेंडिंग जोन बनाने का सपना अधूरा ही रह गया।2017 में लागू हुई थी पथ विक्रेता नियमावली
शासन ने 2017 में उप्र पथ विक्रेता नियमावली लागू की थी। इसमें नगरीय इलाकों में वेंडिंग जोन बनाकर पथ विक्रेताओं को स्थान दिया जाना था, जिससे वह अधिकृत रूप से काम धंधा कर सकें, जबकि भीड़भाड़ एवं अधिक यातायात वाले स्थानों को नॉन वेंडिंग जोन घोषित करना था, जिससे सड़कों पर जाम न लगे। हालांकि इसके तहत पालिका ने वेंडिंग और नॉन वेंडिंग जोन तो निर्धारित किए, लेकिन यह धरातल पर आज तक नहीं उतर सके।
शासन के निर्देश पर पालिका ने जारी किए हैं कार्ड
सड़क किनारे फुटपाथ पर ठेला लगाने वाले पटरी दुकानदारों को पालिका ने पथ विक्रेता प्रमाण पत्र जारी कर रखा है। बावजूद इसके अतिक्रमण हटाओ अभियान में इन्हीं को उजाड़ा जा रहा है। इससे दुकानदारों में नाराजगी है। इनका है कि पथ विक्रेता प्रमाण पत्र देने का मतलब पालिका की ओर से दुकान लगाने की अनुमति ही तो है। फिर अतिक्रमण के नाम पर ठेले वालों को ही क्यों उजाड़ा जा रहा है।
नगर पालिका की ओर से शहर में चिह्नित वेंडिंग जोन

  1. ओवरब्रिज के बीच के तीन स्तंभ का स्थान छोड़कर शेष सभी खंभों के नीचे।
  2. आंबेडकर पार्क से लोहिया भवन तक सड़क के बायीं ओर जेल कॉलोनी की बाउंड्रीवाल के किनारे।
  3. टैक्सी स्टैंड स्थित तांगा स्टैंड के किनारे जीआईसी मैदान के आगे से हनुमान मंदिर के सामने तक।
  4. मेला रोड स्थित धर्मकांटे से भुईफोरवानाथ मंदिर के सामने लाइन पर तिराहे के बायीं ओर।
  5. इमली चौराहा से रामादाल मिल तक सड़क के बायीं ओर तिराहे तक।
  6. क्रॉसिंग पार ओवरब्रिज के दो स्तंभ छोड़कर शेष सभी खंभों के नीचे।
  7. विलोबी मेमोरियल हाल के आगे मुख्य डाकघर के सामने की लाइन से शहपुरा कोठी चौराहे तक।
  8. पुराने एसपी बंगले के सामने की लाइन।
  9. बेहजम रोड पर नहर पुलिया से वात्सल्य नर्सिंग होम तक सड़क के किनारे-किनारे।
  10. गोला रोड पर सड़क के किनारे-किनारे बायीं ओर अजय मोटर्स के सामने तक।
    पटरी दुकानदारों को एक निश्चित स्थान दिलाने और सौजन्या तिराहे पर महिलाओं के लिए पिंक वेंडिंग जोन बनाने का खाका तैयार किया गया था, जिससे दुकानदारों को एक निश्चित स्थान और अतिक्रमण अभियान के दौरान होने वाली दिक्कतों से छुटकारा मिल सके। मगर, कोरोना काल के चलते वेंडिंग जोन बनाने का सपना पूरा नहीं हो सका।
    -निरूपमा बाजपेई, अध्यक्ष नगर पालिका लखीमपुर

Leave a Reply

%d bloggers like this: