एकेटीयू में कामन यूनिवर्सिटी एंट्रेंस टेस्ट से दाखिले की तैयारी, जानिए किन कोर्सों के लिए अब नहीं होगा यूपीसीईटी

लखनऊ, संवाददाता। डा एपीजे अब्दुल कलाम प्राविधिक विश्वविद्यालय (एकेटीयू) द्वारा जारी निर्देशों के क्रम में विवि कामन यूनीवर्सिटी एंट्रेन्स टेस्ट (सीयूईटी)-2022 के माध्यम से प्रवेश लेने का फैसला लिया गया है। एकेटीयू के जनसंपर्क अधिकारी डा पवन त्रिपाठी ने बताया कि विवि द्वारा बीटेक में जेईई(मेन्स) से एवं बीआर्क में नाटा के माध्यम से प्रवेश लिया जाना है। जबकि अन्य पाठ्यक्रमों में सीयूईटी-2022 के माध्यम से प्रवेश लेने पर विचार किया जा रहा है।,

इन पाठ्यक्रमों में बीटेक एग्रीकल्चर, बीटेक बायोटेक, बीफार्म, बीएचएमसीटी, बीएफएडी, बीएफए, बीडेस, एमबीए इंटीग्रेटेड, एमसीए इंटीग्रेटेड, बीडेस, बीवाक, बीटेक लेटरल, बीफार्म लेटरल, एमबीए, एमसीए, एमटेक, एमयूआरपी, एमआर्क, एमडेस, एवं एमफार्म आदि शामिल हैं। इस संबंध में अधिक जानकारी के लिए इच्छुक अभ्यर्थी सीयूईटी-2022 वेबसाइट cuet.samarth.ac.in पर विजिट कर सकते हैं।

बीटेक और बीआर्क छोड़कर अन्य पाठ्यक्रमों में सीयूईटी-2022 के माध्यम से प्रवेश लेने पर विचार किया जा रहा है।

विवि के 750 से अधिक निजी एवं राजकीय संस्थान हैं, जिसके लिए विवि द्वारा प्रवेश काउंसलिंग आयोजित की जाती है। इस बार काउंसिलिंग में बीटेक के लिए जेईई मेंस, बीआर्क के लिए नाटा के अभ्यर्थी अर्ह होंगे। पिछली बार अन्य पाठ्यकर्मों में प्रवेश के लिए यूपीसीईटी-2021 आयोजित किया गया था। जबकि इस बार अन्य पाठ्यक्रमों में लिए आयोजित होने वाली काउंसिलिंग में सीयूईटी-2022 के अभ्यर्थियों को शामिल किया जा सकता है।

पालीटेक्निक की सेमेस्टर परीक्षाएं 25 जून से: प्राविधिक शिक्षा परिषद ने पालीटेक्निक की सेमेस्टर परीक्षाओं की तारीख घोषित कर दी है। सम सेमेस्टर, वार्षिक परीक्षा, बैक पेपर, विशेष बैक पेपर परीक्षा 25 जून से होंगी। परिषद के सचिव सुनील सोनकार ने बताया कि परीक्षाएं 25 जून से 15 जुलाई तक चलेंगी। परीक्षा कार्यक्रम परिषद की वेबसाइट http://www.bteup.ac.in पर अपलोड कर दिया गया है। उन्होंने बताया कि परीक्षा के लिए प्रदेश भर में 400 केंद्र बनाए जाएंगे।इनकी निगरानी के लिए प्रधानाचार्यों को केंद्र अधीक्षक के रूप में नियुक्त किया जाएगा। नकलविहीन परीक्षा कराए जाने के लिए सभी निजी क्षेत्र के परीक्षा केंद्र पर राजकीय, अनुदानित क्षेत्र की संस्थाओं में कार्यरत अधिकारियों की नियुक्ति स्थायी पर्यवेक्षक के रूप में की जाएगी। वहीं, परीक्षा के लिए जोनवार उड़ाका दल समूह भी बनाए गए हैं।

Leave a Reply

%d bloggers like this: