भाजपा जिला अध्यक्ष के नेतृत्व में बिहार के मुख्यमंत्री का किया गया पुतला दहन

रज़ा सिद्दीक़ी

गया ( संज्ञान न्यूज़ ) उक्त अवसर पर भाजपा नेता पूर्व मंत्री सह नगर विधायक डॉ प्रेम कुमार ने कहा कि जब बिहार में एनडीए की सरकार सत्ता आईं थीं तब 2006 में हमलोगों ने अतिपिछड़ा को आरक्षण का लाभ देने काम किया था। तब से अतिपिछड़ा वर्ग को आरक्षण मिल रहा है। माननीय उच्चतम न्यायालय ने 2011 में एक फैसला दिया की किसी भी लोग को आरक्षण देना है तो आयोग गठित कर उसे सार्वजनिक कर उसे लाभ दिया जा सकता है। माननीय उच्चतम न्यायालय के आदेश को बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार न मानते हुए अपने हठधर्मिता के कारण अतिपिछड़ा को परेशान कर रहे हैं।


बिहार में नगर निकाय का चुनाव नीतीश कुमार के कारण स्थगित हुआ है। अगर आयोग का गठन कर आरक्षण रोस्टर का पालन किया जाता तो माननीय उच्च न्यायालय और माननीय उच्चतम न्यायालय चुनाव स्थगित करने आदेश पारित नहीं करती। अतिपिछड़ा का आरक्षण हो या नगर निकाय चुनाव स्थगित करने का मामला हो इसके जिम्मेवार बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार है।
भाजपा जिलाध्यक्ष धनराज शर्मा ने कहा कि बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार अतिपिछड़ा विरोधी हैं। जब भाजपा के साथ थे तब अतिपिछड़ा को आरक्षण का प्रावधान किया गया था। आज जब महागठबंधन में है तो साजीशन आयोग गठित न कर जल्द बाजी में चुनाव का घोषणा करवा दिया गया। नीतीश कुमार को मालूम था कि महाराष्ट्र और मध्य प्रदेश के स्थानीय निकाय के चुनाव में माननीय उच्चतम न्यायालय आरक्षण रोस्टर के कारण रोक लगाई गई थी।

अतः नीतीश कुमार अतिपिछड़ा विरोधी हैं। अतिपिछड़ा का आरक्षण जारी रहना चाहिए। नीतीश कुमार की वजह से आरक्षण के कारण चुनाव स्थगित हुआ है। यह सरकार अतिपिछड़ा विरोधी हैं।इन कारणों को लेकर बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार का पुतला दहन किया गया।
उक्त अवसर भाजपा नेता पूर्व सांसद रामजी मांक्षी, पूर्व विधायक श्यामदेव पासवान, अनु.जाति मोर्चा प्रदेश प्रवक्ता राजेश कुमार चौधरी, जिला उपाध्यक्ष राजेंद्र प्रसाद, डॉ अनुज कुमार, जिला मिडिया प्रभारी युगेश कुमार, जिला महामंत्री प्रशांत कुमार, जिला मंत्री संतोष ठाकुर, अशोक कुमार सिंह, सरयु रजक, दीपक पाण्डेय, पप्पू चंद्रवंशी, पुकार सिंह, मुकेश कुमार अधिवक्ता, चंदन भदानी, उपस्थित थे।

Leave a Reply

You may have missed

%d bloggers like this: