ये बच्चे बड़े कमाल के : मिड ब्रेन एक्टिवेशन ट्रेनिंग के जरिये हासिल की महारत।

मुकेश शर्मा

रायबरेली( संज्ञान न्यूज़) स्पर्श से पढ़ लेते है किताब, सूंघकर पहचान लेते है नोट

छोटी उम्र में बड़ा कमाल । आखों में पट्टी बांध कर हाथ पैर के स्पर्श से किताब व अखबार पढ़ना और सूंघकर नोट भी पहचान लेना । ये महारत हाशिल की है । कुछ बच्चों ने मिड ब्रेन एक्टिवेशन तकनीक से इसकी ट्रेनिंग से लर्निंग पावर बढ़ रही है ।
लखनऊ के होली एंजल स्कूल के बच्चे वाणी कक्षा KG, चाहत कक्षा 8, विनायक कक्षा 1, कार्तिक कक्षा 3 एवं केंद्रीय विद्यालय दिलकुशा के अनुभव जैसराज कक्षा 8 के बच्चे अपनी टच , फील ओर स्मेल शक्ति बढ़ा चुके है । इन बच्चों ने पत्रिका टीम के समक्ष इस तकनीक का हैरतअंगेज प्रदर्शन किया । ये बच्चे आँखों पर पट्टी बांधकर कोई भी किताब या अखबार पढ़ लेते है और किसी भी तरह के रुपए को पहचान लेते है ।

छोटी उम्र में मील ट्रेनिंग तो अच्छा नतीजा

प्रशिक्षक डॉ कमल शर्मा के अनुसार मिड ब्रेन एक्टिवेशन के लिए 4 से 15 साल तक के बच्चे सबसे अच्छे माने जाते है क्यो की इस उम्र तक दिमाग सबसे ज्यादा तेजी से सीखता है । यह कोर्स करीब 10 दिन का होता है सप्ताह में एक दिन चार घण्टे की एक्सरसाइज के दौरान टच, फील ओर स्मेल करने का प्रशिक्षण दिया जाता है । बच्चों को बिना आँखे खोले रंग पहचानने का अभ्यास कराया जाता है । इससे उनकी स्पर्श ओर सूंघने की शक्ति बढ़ती है ।

डिएमआईटी से परखते है क्षमता : बच्चों को मिड ब्रेन एक्टिवेशन कोर्स सिखाने से पहले उनका डिएमआईटी भी करवाना बहुत जरूरी है । यह बोइमेट्रिक एनालिसिस है , जिसमें फ़िंगरप्रिंट से साइंटिफिक स्टडी की जाती है । इससे बच्चों की जन्मजात शक्तियों व लर्निंग क्षमता के बारे में जानकारी मिल जाती है

Leave a Reply

You may have missed

%d bloggers like this: