खीरी में धूमधाम से मनी महर्षि वाल्मीकि जयंतीमंदिरों में दीपदान के साथ हुआ वाल्मीकि रामायण का पाठ

सफाई मित्र हुए सम्मानित, मिली सुरक्षा किट

लखीमपुर खीरी 09 अक्टूबर। रविवार को गत वर्षो की भांति खीरी में महर्षि वाल्मीकि जयंती हर्षोल्लास एवं धूमधाम से मनाई गई। मंदिरों में दीप प्रज्वलन, दीपदान के साथ-साथ वाल्मीकि रामायण का पाठ हुआ। नगरीय निकाय स्तर पर सफाई मित्र सम्मान समारोह, सुरक्षा किट वितरण कार्यक्रम आयोजित हुआ।

इस अवसर पर जिले की सभी तहसील, विकासखंड एवं नगरीय निकाय स्तर पर विभिन्न मंदिरों में भजन कीर्तन एवं रामायण पाठ भी भजन मंडलियों ने किया गया। सभी नगरीय निकाय स्तर पर सफाई मित्र सम्मान समारोह व सफाई मित्र सुरक्षा किट वितरण कार्यक्रम भी आयोजित हुए, जिसमें सफाई मित्रों को प्रशस्ति पत्र देकर सम्मानित किया गया।

वाल्मीकी जंयती पर श्री वाल्मीकी मंदिर, गुटैय्या बाग, लखीमपुर में पूजा-प्रतिष्ठा का आयोजन हुआ, जिसमें महार्षि वाल्मीकी जी की प्रतिमा का माल्यापर्ण किया गया तथा रामायण पाठ का आयोजन हुआ। जिसमें मंदिर प्रशासन के सहयोग से भजन-कीर्तन मण्डली द्वारा भजन-कीर्तन किया तथा श्रद्धालुओं में प्रसाद का वितरण किया। साथ ही महर्षि वाल्मीकी जी के जीवन पर प्रकाश डालते हुए श्रद्धालुओं को महर्षि वाल्मीकी जी के पद चिन्हों पर चलने हेतु प्रेरित किया गया। साथ ही जनपद के विभिन्न वाल्मीकी मंदिरों में प्रतिमा का माल्यापर्ण, भजन-कीर्तन तथा प्रसाद वितरण किया।

नगर पालिका परिषद लखीमपुर क्षेत्र अंतर्गत विभिन्न मंदिरो में वाल्मीकि जयंती मनाई गई। नगर पालिका सभागार में सफाई मित्रों का सम्मान समारोह आयोजित हुआ। चेयरमैन श्रीमती निरुपमा मोनी बाजपेई ने अधिशासी अधिकारी संजय कुमार के संग सफाई मित्रों को सम्मानित किया।

कार्यक्रम को संबोधित करते हुए चेयरमैन निरुपमा मौनी बाजपेई ने कहा कि महर्षि बाल्मीकि वैदिक काल में महान ऋषियों में आते हैं। महर्षि वाल्मीकि को आदि कवि के नाम से भी जाना जाता है, उनके द्वारा रचित विश्व प्रसिद्ध कालजयी कृति रामायण महाकाव्य सामाजिक मूल्यों, मानव मूल्यों एवं राष्ट्र मूल्यों की स्थापना का आदर्श है। ईओ नगर पालिका संजय कुमार ने कार्यक्रम की आवश्यकता एवं प्रासंगिकता बताते हुए कहा कि वाल्मीकि रामायण में निहित मानव मूल्यों, सामाजिक मूल्य एवं राष्ट्रीय मूल्यों से जन सामान्य को जोड़ना है। इस मौके पर नगरीय निकाय के अधिकारी कर्मचारी मौजूद रहे।

कार्यक्रम के नोडल अधिकारी/डीपीआरओ सोम्यशील सिंह ने बताया कि जिले भर में शहरी एवं ग्रामीण क्षेत्रों में मंदिरों में दीप प्रज्वलन, दीपदान के साथ-साथ भजन मंडलियों द्वारा वाल्मीकि रामायण का पाठ भी हुआ। स्थानीय कलाकारों, भजन मंडलियों द्वारा वाल्मीकि रामायण का पाठ किया। जिलेभर में आयोजित वाल्मीकि जयंती कार्यक्रमों की सूचना संकलित करके संस्कृति विभाग, उत्तर प्रदेश के पोर्टल पर भी फीड कर दी गई।

Leave a Reply

You may have missed

%d bloggers like this: