श्रीबाबू को भारतरत्न दिया जाए _ कांग्रेस

रज़ा सिद्दीक़ी गया (संज्ञान दृष्टि) महान स्वतंत्रता सेनानी,आधुनिक बिहार के निर्माता, बिहार केशरी राज्य के प्रथम मुख्यमंत्री डॉ श्रीकृष्ण सिंह जी की १३५ वीं जयंती स्थानीय चौक स्थित इंदिरा गांधी प्रतिमा स्थल प्रांगण में कांग्रेस सेवादल बोर्ड कार्यालय में मनाई गई। सर्वप्रथम डा श्रीकृष्ण सिंह जी के चित्र पर श्रद्धा सुमन अर्पित कर उनके व्यक्तित्व एवम् कृतित्व पर विस्तृत प्रकाश डाला गया। कार्यक्रम की अध्यक्षता अखिल भारतीय कांग्रेस कमिटी के सदस्य सह क्षेत्रीय प्रवक्ता बिहार प्रदेश कांग्रेस कमिटी प्रो विजय कुमार मिठू ने किया तथा संचालन कांग्रेस सेवादल बोर्ड के प्रदेश महासचिव अमरजीत कुमार ने किया। कार्यक्रम को संबोधित करते हुए वक्ताओं ने कहा की बिहार केशरी डा श्रीकृष्ण सिंह बिहार के चौहमुखी विकास, कानून व्यवस्था में देश के अव्वल राज्य के लिए बिहार को नामित कराने, छुआ छूत के भेद भाव को समाप्त करते हुए देवघर मंदिर में अनुसूचित जाति के लोगो को प्रवेश कराने वाले, जमींदारी प्रथा को समाप्त कराने आदि कार्यों को मूर्तरूप देने का काम किया था। वक्ताओ ने कहा की डा श्रीकृष्ण सिंह जी के समक्ष उत्तर प्रदेश प्रथम मुख्यमंत्री पंडित गोविंद वल्लभ पंत, पश्चिम बंगाल के प्रथम मुख्यमंत्री विधानचंद राय, महाराष्ट्र के मोरारजी देसाई आदि भारतरत्न से नवाजे जा चुके है, जबकि श्रीबाबू जो भारतरत्न के सही हकदार है, उन्हे अभी तक केंद्र सरकार द्वारा भारत रत्न देने का निर्णय नहीं लिया गया। राज्य सरकार द्वारा इन्हें भारत रत्न देने का निर्णय कर केंद्र सरकार को भेज चुकी है। कार्यक्रम में पूर्व विधायक मो खान अली, जिला उपाध्यक्ष बाबूलाल प्रसाद सिंह, जिला महासचिव दामोदर गोस्वामी, सचिव राम लखन भगत, युवा कांग्रेस के मो सफी आलम, मो नवाब अली, रंजीत कुमार सिंह, सरोज शर्मा आदि शामिल होकर श्रीबाबू के व्यक्तित्व, कृतित्व पर प्रकाश डाला।

Leave a Reply

You may have missed

%d bloggers like this: