डीएम के निर्देश पर तहसीलों में एसडीएम ने संभाली पराली जागरूकता की कमान

गांव-गांव दस्तक देकर जागरूकता अभियान चला रहे अफसर, पराली न जलाने का दिलाया संकल्प

लखीमपुर खीरी 28 अक्टूबर। जिला प्रशासन की ओर से डीएम महेंद्र बहादुर सिंह के मार्गदर्शन एवं नेतृत्व में इस बार धान के सीजन में पराली जलाने से किसानों को रोकने के लिए भरसक प्रयास किए जा रहे। कहीं जागरूकता शिविर तो कहीं खेतों में भी निगरानी की जा रही है।

मोहम्मदी। तहसील मोहम्मदी क्षेत्र के तहत ब्लॉक मोहम्मदी, पसगवा में डीडी कृषि अरविंद मोहन मिश्रा, तहसीलदार संतोष शुक्ला, संबंधित बीडीओ की मौजूदगी में पराली जागरूकता कार्यशाला हुई। डीडी कृषि ने किसानों को डी-कंपोजर का वितरण करके फसल अवशेष प्रबंधन में इसकी उपादेयता बताइ। तहसीलदार संतोष शुक्ला ने पराली जलाने के दुष्प्रभाव बताते हुए पराली न जलाने की अपील की। एसडीएम पंकज श्रीवास्तव ने ग्राम महोलिया मुड़ा निजाम में ग्राम चौपाल के जरिए लोगों को पराली न जलाने के विषय में जानकारी दी। इससे होने वाले नुकसान बताए। ग्रामीणों को संकल्प दिलाया कि ना वह स्वयं पराली जलाएंगे ना किसी को जलाने देंगे।

निघासन। एसडीएम राजेश कुमार ने तहसील सभागार में कंबाइन मशीन स्वामियों एवं किसान यूनियन के पदाधिकारियों के साथ संवाद किया। उन्हें पराली जलाने के दुष्प्रभाव बताए, पराली न जलाने में उनका सहयोग मांगा। इस दौरान काफी संख्या में किसान राजस्व अधिकारी कर्मचारी मौजूद रहे। इसके अलावा एसडीएम ने मुड़ा गांव में पराली जागरूकता चौपाल लगाई। ग्रामीणों को फसल अवशेष प्रबंधन की जानकारी देते हुए पराली न जलाने का संकल्प दिलाया।

गोला। तहसील क्षेत्र गोला अंतर्गत ग्राम रसूलपनाह, रामनगर कला एवं गदियाना में एसडीएम अनुराग सिंह के निर्देशन में ग्राम चौपाल का आयोजन हुआ। अफसरों ने फसल अवशेष प्रबंधन पर जोर देते हुए पराली जलाने के हानियां बताई। पराली जलाने की घटनाओं की मानिटरिंग सेटेलाइट के जरिए की जा रही है। इसलिए पराली जलाने की गलती कदापि ना करें। एसडीएम के निर्देश पर राजस्व अधिकारियों कर्मचारियों ने दर्जनों गांव में चौपाल लगाकर लोगों को जागरूक किया।

धौराहरा। एसडीएम धीरेंद्र सिंह की अध्यक्षता में ग्राम बम्होरी में ग्राम चौपाल आयोजित हुई, जहां उन्होंने ग्रामीणों को पराली एवं फसल अवशेष ना जलाने के लिए संकल्प दिलाया। एसडीएम के नेतृत्व एवं मार्गदर्शन में धौराहरा के करीब एक दर्जन गांवों में राजस्व अधिकारियों ने दस्तक देकर चौपाल लगाई। जहां ग्रामीणों को फसल अवशेष प्रबंधन के तरीके बताए गए। वही पराली को नजदीकी गौशाला में प्रधान के जरिए भिजवाने के लिए कहा गया।

मितौली। एसडीएम विनीत उपाध्याय ने ग्राम रहजनिया एवं लिधियाई में चौपाल लगाई। मौजूद ग्रामीणों एवं किसानों को फसल अवशेष प्रबंधन की जानकारी देते हुए पराली न जलाए जाने की बात कही। एसडीएम के आवाहन पर ग्रामीणों ने प्रशासन की इस मुहिम का स्वागत किया। भरोसा दिलाया कि वह ना तो स्वयं पराली जलाएंगे ना तो किसी को जलाने देंगे। एसडीएम ने कहा कि यदि कोई पराली जलाए तो उसकी सूचना डायल 112 पर दे।

लखीमपुर। एसडीएम श्रद्धा सिंह ने कृषि उत्पादन मंडी समिति राजापुर में किसानों के साथ बैठक की। उन्हें फसल अवशेष जलाने के दुष्प्रभाव बताए। इस दौरान किसानों को पराली जलाने के बजाय उसे नजदीकी गौशाला में भिजवाने का संकल्प दिलाया। एसडीएम ने बताया कि पराली जलाने की घटनाओं की मानिटरिंग उच्च स्तर से सेटेलाइट के जरिए की जा रही है, जिसकी सटीक लोकेशन भी आसानी से उपलब्ध हो जाती है। इसलिए पराली कदापि ना जलाएं। प्रशासन का सहयोग करें प्रशासन किसानों की हितों को संरक्षित करने के लिए कटिबद्ध है। इसके अलावा एसडीएम ने ग्राम मीरपुर में ग्राम चौपाल लगाई। जहां किसानों को जागरूक करते हुए पराली न जलाने की शपथ दिलाई।

पलिया। एसडीएम कार्तिकेय सिंह के नेतृत्व मे राजस्व टीम में किसानों को जागरूक करने के लिए कोई कोर कसर नहीं छोड़ रही। यही नहीं एसडीएम स्वयं गांव में दस्तक देकर किसानों से संवाद स्थापित करते हुए उन्हें पराली जलाने के दुष्प्रभाव गिना रहे। संवाद के बाद किसान प्रशासन को पराली न जलाने के लिए आशस्त भी कर रहे। एसडीएम ने महंगापुर और त्रिकौलिया में किसानों से संवाद किया। यही नहीं उन्होंने खेत में फसल काट रहे किसानों को जागरूक किया। वही फसल अवशेष को अपनी मौजूदगी में नजदीकी गौशाला भिजवाया।

Leave a Reply

You may have missed

%d bloggers like this: