डीएम के निर्देश पर हरकत में आए अफसर।

जिले भर में अभियान चलाकर एसडीएम समेत राजस्व अफसरों ने किया धान क्रय केंद्र, गो आश्रय केंद्र का किया औचक निरीक्षण

धर्मेश शुक्ल/मनोज गौंड

पराली जागरूकता पर आयोजित हुई गोष्ठीयां, अवशेष प्रबंधन हेतु किसानों को बांटे डी कंपोजर

लखीमपुर खीरी 05 नवंबर। शनिवार को डीएम महेंद्र बहादुर सिंह के निर्देश पर जिले के सभी उपजिलाधिकारी, तहसीलदार, नायब तहसीलदार सहित राजस्व अधिकारियों ने जनपद की समस्त गो आश्रय स्थल, धान क्रय केंद्र का औचक निरीक्षण किया। राजस्व टीमों ने गांव में दस्तक देकर ग्रामीणों को फसल अवशेष प्रबंधन बताकर पराली जलाने के दुष्प्रभाव बताए।

एसडीएम ने धान क्रय केंद्र व गो आश्रय स्थलों का औचक निरीक्षण, दिए निर्देश

लखीमपुर। एसडीएम श्रद्धा सिंह ने गो आश्रय स्थल मकसोहा व खम्भारखेरा का औचक निरीक्षण कर व्यवस्थाओं की पड़ताल की। निरीक्षण के दौरान एसडीएम ने संरक्षित गोवंश कि ना केवल संख्या जानी बल्कि शीत लहरी के लिए किए जा रहे इंतजामों की जमीनी हकीकत जानी। निरीक्षण के दौरान दोनों आश्रय स्थल में पर्याप्त मात्रा में पशु आहार की उपलब्धता पाई गई। उन्होंने निर्देश दिए कि संरक्षित गोवंश की नियमित देखभाल के साथ-साथ उनके स्वास्थ्य के संबंध में नियमित निगरानी रखी जाए। इसके अलावा तहसीलदार ने कोरारा व नायब तहसीलदार ने ओयल स्थित गो आश्रय स्थल का निरीक्षण किया। निरीक्षण के दौरान आश्रय स्थल में संरक्षित गोवंश के लिए मुकम्मल इंतजाम की पड़ताल की।

एसडीएम श्रद्धा सिंह ने धान क्रय केंद्र बसहामाफ़ी,
रंगीला नगर सहित कई क्रय केंद्रों का सघन निरीक्षण किया। इस दौरान उन्होंने खरीद किए गए धान की मात्रा एवं किसानों की आवक के संबंध में जानकारी ली। इस दौरान उन्होंने धान विक्रय करने आए किसानों से संवाद किया। यही नहीं एसडीएम ने बसहामाफ़ी व तहसीलदार सहित राजस्व अधिकारियों ने भ्रमणसील रह कर धान अवशेष प्रबंधन के लिए गुर समझाए।

मंडी पहुंचे एसडीएम, क्रय केंद्रों का किया निरीक्षण
पलिया। शनिवार को एसडीएम कार्तिकेय सिंह ने कृषि उत्पादन मंडी समिति पलिया में धान क्रय केंद्रों का औचक निरीक्षण किया। इस दौरान उन्होंने एक-एक केंद्र पर स्वयं जाकर मौजूद किसानों से संवाद किया। क्रय केंद्र प्रभारियों को निर्देश दिए कि धान विक्रय करने आए किसानों को फैसिलिटेट करके न्यूनतम समर्थन मूल्य का लाभ उपलब्ध कराएं। उन्होंने कहा कि धान खरीद में किसानों का उत्पीड़न एवं लापरवाही किसी भी स्तर पर बर्दाश्त नहीं की जाएगी।

एसडीएम ने किया क्रय केंद्रों एवं गो आश्रय स्थलों का निरीक्षण, दिए निर्देश

धौराहरा। एसडीएम धीरेंद्र सिंह ने तहसील धौरहरा क्षेत्र अंतर्गत अस्थाई गोवंश आश्रय स्थल महरिया व बसंतपुर का औचक निरीक्षण किया। निरीक्षण के दौरान गोवंश के खाने के लिए भूसा व हरा चारा पर्याप्त मात्रा में मिला। मौके पर उपस्थित ग्राम प्रधान व ग्राम पंचायत अधिकारी को निर्देशित किया कि गोवंश का निरंतर स्वास्थ्य परीक्षण कराया जाए। शीतलहर के दृष्टिगत आवश्यक व्यवस्थाएं सुनिश्चित कर ली जाए।

इसके उपरांत एसडीएम धीरेंद्र सिंह ने तहसील धौरहरा क्षेत्र अंतर्गत धान क्रय केंद्रों का भी निरीक्षण किया। साधन सहकारी समिति द्वारा संचालित क्रय केंद्र हसनापुर, खमरिया पंडित,रुद्रपुर, कबिरहा व हसनपुर कटौली का औचक निरीक्षण किया। निरीक्षण में सभी केंद्र खुले मिले। सभी उपकरण मौजूद मिले। मौके पर उपस्थित केंद्र प्रभारी को धान क्रय किए जाने के संबंध में किसानों को जागरूक करते हुए लक्ष्य के अनुरूप खरीद किए जाने हेतु निर्देशित किया। इसके अतिरिक्त नायब तहसीलदार ने अस्थाई गोवंश आश्रय स्थल सुजानपुर व नरूपुर का औचक निरीक्षण किया। दोनों गौशाला में भूसा पर्याप्त मात्रा में संरक्षित मिला एवं हरे चारे की भी व्यवस्था पाई गई। मौके पर उपस्थित ग्राम प्रधान व ग्राम पंचायत अधिकारी को नायब तहसीलदार ने निर्देशित किया कि पशुओं का निरंतर स्वास्थ्य परीक्षण किया जाए। चारा व पानी की समुचित व्यवस्था करते हुए आगामी शीत लहर के दृष्टिगत आवश्यक व्यवस्थाएं पूर्ण कर ली जाए।

मैगलगंज मंडी पहुंचे एसडीएम, क्रय केंद्रों का किया औचक निरीक्षण

बबोना गो आश्रय स्थल का हुआ निरीक्षण, कई गांव में पराली जागरूकता की लगी चौपाले

मितौली। एसडीएम विनीत उपाध्याय ने तहसील मितौली क्षेत्र के बेहजम, लखहा, पैला में पराली जागरूकता गोष्ठी का आयोजन किया। जिसमें उन्होंने किसानों को फसल अवशेष प्रबंधन हेतु डी कंपोजर का वितरण किया। इस दौरान उन्होंने पराली जलाने के दुष्प्रभाव बताए। फसल अवशेष प्रबंधन के लिए जागरूक किया। एसडीएम ने मंडी समिति मैगलगंज पहुंचकर धान क्रय केंद्रों का औचक निरीक्षण किया। मौजूद किसानों से संवाद किया। क्रय केंद्र प्रभारियों को निर्देश दिए कि किसानों को कोई भी असुविधा ना हो इस बात का विशेष ध्यान रखा जाए। इसके बाद उन्होंने गो आश्रय स्थल बबोना का औचक निरीक्षण किया। उन्होंने संरक्षित गोवंश की स्वास्थ्य के संबंध में जानकारी ली। शीतलहर से मद्देनजर मुकम्मल इंतजामों के लिए जरूरी निर्देश दिए।

निघासन। एसडीएम राजेश कुमार ने नगर पंचायत सिंगाही द्वारा संचालित गो आश्रय स्थल का औचक निरीक्षण किया एवं व्यवस्थाओं की पड़ताल की। उन्होंने निर्देश दिए कि संरक्षित गोवंश के स्वास्थ्य की नियमित जांच कराई जाए। शीतलहर के मद्देनजर व्यवस्थाओं को और बेहतर बनाया जाए। इसके बाद उन्होंने तिकुनिया मंडी पहुंचकर धान क्रय केंद्रों का निरीक्षण किया। क्रय केंद्र प्रभारियों से जाना कि अब तक कितने किसानों से कितनी मात्रा में धान की खरीद की गई। मौजूद किसानों से संवाद किया। उन्होंने क्रय केंद्र प्रभारियों को निर्देश दिए कि धान विक्रय करने आए किसानों को फैसिलिटेट किया जाए।

मोहम्मदी। एसडीएम पंकज श्रीवास्तव की अध्यक्षता में शनिवार को ग्राम बड़हिया, अजवापुर, गोविंदापुर, जसमडी में पराली जागरूकता गोष्ठी आयोजित हुई। जिसमें फसल अवशेष प्रबंधन हेतु किसानों को डी कंपोजर वितरित किया गया। पराली जलाने के दुष्प्रभाव बता कर फसल अवशेष प्रबंधन के लिए जागरूक किया। उन्होंने बताया कि पराली जलाने की घटनाओं की मॉनिटरिंग सेटेलाइट के जरिए की जा रही है। कोई भी घटना उसकी निगरानी से नही बचेगी, इसलिए पराली कदापि ना जलाएं, अन्यथा अनुमन्य जुर्माना वसूला जाएगा।इसके बाद एसडीएम ने गो आश्रय स्थल गोविंदापुर, गुलौली का औचक निरीक्षण कर व्यवस्थाओं की पड़ताल की। निर्देश दिए कि आश्रय स्थल में संरक्षित किसी भी गोवंश को किसी प्रकार की असुविधा नहीं होनी चाहिए, यह प्रत्येक दशा में सुनिश्चित किया जाए। उन्होंने शीतलहर के दृष्टिगत आश्रय स्थल में व्यवस्थाओं को और बेहतर बनाने के निर्देश दिए। इस दौरान उन्हें चारे की पर्याप्त उपलब्धता मिली। उन्होंने निर्देश दिए कि संरक्षित गोवंश की नियमित स्वास्थ्य परीक्षण कराया जाए।इसके बाद उन्होंने कृषि उत्पादन मंडी समिति मोहम्मदी पहुंचकर वहां संचालित धान क्रय केंद्रों का औचक निरीक्षण किया। मौजूद किसानों से संवाद किया। क्रय केंद्र के विभिन्न अभिलेखों का अवलोकन किया। क्रय केंद्रों पर किसानों द्वारा विक्रय किए गए धान की मात्रा एवं किसानों की संख्या जानी।

गोला। एसडीएम अनुराग सिंह ने गोला तहसील क्षेत्र अंतर्गत पिपरिया गंगा, लखरवा, छेदीपुर, रतनपुर, सोनाख़ुर्द में पराली जागरूकता चौपाल आयोजित की। किसानों को फसल अवशेष प्रबंधन के लिए डी कंपोजर वितरित किए। पराली जलाने के दुष्प्रभाव बताए। एसडीएम के निर्देश पर तहसील क्षेत्र के सभी गांव में पराली जागरूकता के संदेश को मुनादी के जरिए प्रसारित किया जा रहा है। एसडीएम ने कृषि उत्पादन मंडी समिति गोला पहुंचकर वहां स्थापित धान क्रय केंद्रों की जमीनी हकीकत जानी। उन्होंने मंडी में स्थापित प्रत्येक क्रय केंद्र पर धान क्रय की वस्तुस्थिति जानी। निर्देश दिए कि धान खरीद के दौरान किसानों की सुविधाओं का ध्यान रखा जाए। उनका उत्पीड़न हुआ तो संबंधित का उत्तरदायित्व निर्धारित करते हुए कड़ी कार्यवाही अमल में लाई जाएगी।

Leave a Reply

You may have missed

%d bloggers like this: