प्रशांत किशोर, बोलें- नीतीश कुमार पेंडुलम की तरह कमल और लालटेन के बीच झूलते रहते

संवादाता रज़ा सिद्दीक़ी

गया (संज्ञान न्यूज़) जन सुराज पदयात्रा के 50वें दिन की शुरुआत पूर्वी चंपारण के पहाड़पुर प्रखंड के उत्तरी नोनिया पंचायत स्तिथ जन सुराज पदयात्रा शिविर में सर्वधर्म प्रार्थना से हुई। इसके बाद पदयात्रा का हुजूम दक्षिणी नोनिया पंचायत पहुंचा जहां प्रशांत किशोर समेत सभी पदयात्रियों का लोगों ने भव्य स्वागत किया व कुछ दूरी तक पदयात्रा का हिस्सा बनें। इसके बाद प्रशांत किशोर ने इनारवाभर पंचायत में जनसभा को संबोधित करते हुए कहा कि जन सुराज पदयात्रा के माध्यम से 50वें दिन 550 किलोमीटर से अधिक पैदल चलकर आप लोगो के पास आए हैं, जिस माटी,राज्य से आते हैं, वहां के लोगों की दुर्दशा को साथ मिलकर दूर करने का संकल्प है। जन सुराज पदयात्रा में गांव-गांव पैदल चलकर आप सभी से मिल रहें हैं, ताकि आपकी तकलीफों को महसूस कर उसे दूर करने का प्रयास किया जा सके।

आज जन सुराज पदयात्रा का हुजूम उत्तरी नोनिया से शुरू होकर दक्षिणी नोनिया, इनारवाभर, सतहा, नाउवाडीह, परसौनी, बलुआ, अमवा निजामत, इंग्लिश, कोटवा, बरकुरवा, सोनोवाल, दक्षिणपट्टी, तेजपुरवा, गुजरौलिया, अरेराज प्रखंड के गुजरौलिया, ममरखा, पचरुकिया होते अरेराज प्रखंड के मलाही में रात्रि विश्राम के लिए पहुंची।

गलत वोट और शराबबंदी का हर्जाना आप अपनी जेब से भर रहे हैं: प्रशांत किशोर

प्रशांत किशोर ने नौवाडीह पंचायत के सताहा गांव में जनसभा को संबोधित करते हुए कहा कि बिहार में शराबबंदी की वजह से नीतीश कुमार बिहार की जनता से यूपी के मुकाबले डीजल प्रति ₹9 लीटर ज्यादा वसूल रहें हैं। उन्होंने कहा कि मोदी जी आपसे पेट्रोल का दाम ₹100 लेते हैं, लेकिन बिहार में आपको पेट्रोल पर ₹13 प्रति लीटर ज्यादा देने पड़ते हैं। जिसपर नीतीश जी का तर्क है कि शराबबंदी की वजह से ये बढ़े हुए दामों का असर जनता की जेबों पर पड़ रहा है और वो भी तब जब बिहार में शराब की धड़ाके से होम डिलीवरी हो रही है। जब बिहार में शराबबंदी पूरी तरह से विफल है उसके बावजूद लोगों को शराबबंदी का हर्जाना पेट्रोल-डीजल की ज्यादा कीमत देकर चुकानी पड़ रही है।

नीतीश कुमार पेंडुलम की तरह कमल और लालटेन के बीच झूलते रहते हैं : प्रशांत किशोर
जन सुराज पदयात्रा के दौरान आमसभा को संबोधित करते हुए प्रशांत किशोर ने नीतीश कुमार पर तंज कसते हुए कहा कि बिहार की जनता को लगता है की राज्य में विकल्प नहीं है। कमल और लालटेन के बीच नीतीश कुमार पेंडुलम की तरह यहां से वहां झूलते रहते हैं। जब लालटेन के साथ थे और जनता ने वोट दिया तो वह भाजपा में जाकर मिल गए, और जब भाजपा के साथ थे और जनता ने उन्हें वोट किया तो वे लालटेन की तरफ जा पहुंचे। आगे जनता से अपील करते हुए प्रशांत किशोर ने कहा कि वोट उसको दीजिए आपके बच्चे की खाने की व्यवस्था करे, आपकी रोजगार की व्यवस्था करें। जब आप ऐसे व्यक्ति को वोट देते हैं जो हिंदू मुसलमान पाकिस्तान के मुद्दों पर आपसे वोट लेता है, फिर आप बदले में अच्छे अस्पताल, रोड, स्कूल या रोजगार की उम्मीद कैसे कर सकते हैं।

Leave a Reply

%d bloggers like this: